Sarus Circuit logo

About Saman Bird Sanctuary

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में समन पक्षी अभयारण्य गंगा बाढ़ मैदानी (on Ganges floodplain) मौसमी ऑक्सबो (oxbow) झील है। यह जुलाई और अगस्त में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगमन पर बहुत अधिक निर्भर है, जो कि अधिकांश वार्षिक वर्षा प्रदान करता है। अभयारण्य नियमित रूप से 50,000 से अधिक वाटरबर्ड्स (187 पक्षी प्रजातियों को दर्ज किया गया है) को शरण देता है और विशेष रूप से सर्दियों के दौरान मौजूद दक्षिण एशियाई आबादी के 1% से अधिक ग्रेलेग गूज (Anser anser) सहित कई प्रवासियों के लिए एक शीतकालीन स्थल के रूप में महत्वपूर्ण है। यहॉ सॉरस क्रेन (ग्रस एंटीगोन) और अधिक चित्तीदार ईगल (एक्विला क्लेन्गा) प्रकार की विलोपोन्मुखी प्रजातियां भी पाई जाती हैं। प्रदान की गई पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं में कृषि के लिए ताजे पानी की आपूर्ति, साथ ही पक्षियों की विशाल विविधता के आसपास मनोरंजन और प्रकृति आधारित पर्यटन शामिल हैं।

समान पक्षी विहार का कुल क्षेत्रफल 526.30 है0 है। समान पक्षी विहार जनपद मैनपुरी से किशनी मार्ग पर 29 कि0मी0 दूरी पर स्थित है, जो इटावा से किशनी-करहल मार्ग से 46 कि0मी0 सड़क मार्ग से जुड़ा है। समान, हिन्दूपुरा, कुड़रिया, सरसई हेलू(इटावा जनपद सीमा), जगन्नाथपुरा (इटावा जनपद सीमा) एवं ढकपुरा गाँवों के मध्य में यह झील स्थित है। झील के मध्य स्थान-स्थान पर द्वीप बने हुए हैं जिस पर अधिकांशतः ज्यूलीफ्लोरा है।

भौगोलिक संरचना :

यह पक्षी विहार समान गाँव के निकट स्थित है। इसका अधिकांश भाग समतल है। भूमि ऊसर है अधिकतर कंकड़ पैन तथा कुछ भाग दोमट मिट्टी का है। यह पक्षी विहार पूर्व में N 27ᴼ 00’ 14.5’’ E 079ᴼ 11’ 22.9’’पश्चिम में N 27ᴼ 01’ 02.7’’ E 079ᴼ 10’ 30.9’’उत्तर में N 27ᴼ 01’ 13.1’’ E 079ᴼ 11’ 30.2’’ के मध्य में स्थित है।

जलवायु :

यहां की जलवायु विशिष्ट है। उत्तर प्रदेश के मध्य मैदानी क्षेत्र में गर्मी में अधिक गर्मी तथा शीतकाल में अधिक सर्दी पड़ती है। ग्रीष्मकाल का प्रारम्भ अप्रैल की धूल युक्त गर्म हवाओं से होता है तथा यह जुलाई के अंत तक वर्षा ऋतु के प्रारम्भ होने से पूर्व तक जारी रहता है।

वर्षाः

सामान्यतः वर्षा जुलाई से सितम्बर के मध्य होती है कभी-कभी वर्षा कम होती है। वर्षा अधिक अन्तराल से होने के कारण पौधों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है तथा पौधों के जीवित रहने की सम्भावना कम रहती है।

बर्फ तथा ओलेः

इस क्षेत्र के सर्दियों में बर्फ नहीं पड़ती। यदाकदा सर्दियों की वर्षा में ओले पड़ते हैं। अधिकतर सितम्बर, अक्टूबर में ही ओले पड़ते हैं।

तापमानः

यहां तापमान के अधिक परिवर्तन से सामान्यतः चार मुख्य ऋतुयें होती हैं। सर्दियों तथा गर्मियों के औसत तापमान 4° से 47° सेल्सियस बना रहता है।

आर्द्रताः

इस क्षेत्र में सम्पूर्ण औसत वार्षिक वर्षा 511 मि0मी0 से 743 मि0मी0 के मध्य रहती है तथा इन दिनों में अधिकतम आर्द्रता रहती है। अधिकतर अप्रैल से जून तक शुष्क महीने रहते हैं तथा अधिकतर आर्द्रता जुलाई से अक्टूबर के महीने में रहती है।

जल के संसाधनः

यह एक कृत्रिम झील है, जिसमें वर्षा का जल एकत्रित होता है। कम वर्षा अथवा पानी कम मात्रा में एकत्रित होने के स्थिति में वर्षा आरम्भ होने से पूर्व झील का पानी न्यूनतम् स्तर पर पहुँच जाता है। विषम् स्थित उत्पन्न होने से पूर्व नहर,रजवाहों से पानी की वैकल्पिक व्यवस्था की जाती है।

Map of wetland and its zone of influence (cadastral scale/1: 10,000 or lower for wetlands < 500 ha and for wetlands ≥ 500 ha, 1: 25,000 or lower)